भारत में सबसे लोकप्रिय और सबसे कठिन समझी जाने जानी वाली UPSC CSE (UPSC सिविल सर्विसेज परीक्षा) अब कुछ महीने ही दूर रह गई है। सभी अभ्यर्थियों ने इस परीक्षा के लिए अपनी कमर कस ली होगी इसका हमें यकीन है।

लाखों उम्मीदवार हर साल परिश्रम पूर्वक तैयारी करके इस परीक्षा में उम्मीद के साथ बैठते है पर जाहिर है सफलता तो निर्धारित पद के तहत कुछ लोगों के ही हाथ लगनी है। सफल वही होगा जिसकी परीक्षा के लिए रणनीति एकदम सटीक होती है। सटीक रणनीति के लिए आवश्यक है कि आपको निर्देशन सही मिले। आज हम आपको बताएँगे कि बचे 150 दिन के लिए अभ्यर्थी को किस रणनीति के तहत अपनी तैयारी जारी रखनी चाहिए।

जैसा की आपको ज्ञात ही होगा की IAS प्रीलिम्स 2019 की परीक्षा 02 जून 2019 को निर्धारित की गई है। हमें विश्वास है कि अब तक आपकी लगभग तैयारी हो चुकी होगी। अब बस आपको मार्गदर्शन की आवश्यकता है कि इन बचे 150 दिन की तैयारी में क्या रणनीति अपनाएँ? जिससे की आपका ध्यान केन्द्रित रहे और आपका आत्मविश्वास बढ़े। जाहिर है जब अभ्यास, ज्ञान और आत्मविश्वास बढ़ जाता है तो सफलता पाने में देर नहीं लगती।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2019 हेतु 150 दिन की अध्ययन योजना

सिविल सर्विसेज के टॉप रेंकर्स की जुबानी और उनसे बात कर के उनके अध्ययन की बारीकियों से अवगत होकर हम यह कह सकते हैं कि सफलता सिर्फ उन्हीं को मिलती है जो नियमित और अनवरत ध्यान केन्द्रित कर निष्ठा के साथ अध्ययन में लगे रहते हैं। यह अध्ययन प्लान टॉप रेंकर्स के अध्ययन प्लान के अवलोकन पश्चात बनाया गया है।

हमने प्रत्येक भाग के परीक्षण के लिए एक विस्तृत अध्ययन योजना बनाई है। जिसमें प्रत्येक भाग के खण्डों का परिक्षण किया गया है। सबसे पहले आप आश्वस्त हो लें कि अभी आईएस प्रारंभिक परीक्षा 2019 की तैयारी के लिए आपके पास पर्याप्त समय है। परन्तु इस समय सबसे बड़ी जरुरत यह है कि हम जांच लें कि हम जिस अध्ययन योजना पर चल रहे हैं क्या उसमे अब कुछ परिवर्तन की जरुरत तो नहीं है? आइए हम मान लेते हैं कि आप 8 घंटे का अध्ययन प्लान बना कर अपनी तैयारी जारी रख रहे हैं। अब तय घंटे को हम विषयवार रूप से एक निश्चित समय विभाजन प्रदान कर रणनीति बनाते हैं।

दिन की कुल संख्या।                        150

★इतिहास और कला एवं               25दिन
संस्कृति की तैयारी के लिए
 समर्पित दिन
★भूगोल तैयार करने के लिए         20दिन
समर्पित दिन
★राज्यव्यवस्था तैयार करने          20दिन
के प्रति समर्पित दिन
★अर्थव्यवस्था तैयारी के               25दिन
प्रति समर्पित दिन
★पर्यावरण तैयारी के प्रति             20दिन
समर्पित दिन
★विज्ञान और प्रौद्योगिकी।            20दिन 
 तैयार करने के लिए समर्पित
दिन
★वर्तमान मामलों (कर्रेंट अफेयर)  20दिन
 की तैयारी के प्रति समर्पित दिन

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2019 के लिए 150 दिन की अध्ययन योजना : इतिहास और कला एवं संस्कृति

भारतीय इतिहास और कला एवं संस्कृति में फोकस क्षेत्र :
IAS प्रारंभिक परीक्षा में पूछे जाने वाले अधिकांश इतिहास विषयक प्रश्न आम तौर पर “आधुनिक भारत और कला एवं संस्कृति” से आते हैं।

यह भी पाया गया है कि “मध्ययुगीन भारतीय इतिहास और प्राचीन भारतीय इतिहास” पूछे गए प्रश्नों की संख्या के हिसाब से एक प्रमुख भाग के रूप में नहीं रहे हैं।

प्राचीन इतिहास 6 दिन

पूर्व ऐतिहासिक काल, सिंधु घाटी सभ्यता, वैदिक काल, बौद्ध धर्म एवं जैन धर्म, मौर्य साम्राज्य, पूर्व गुप्त काल , गुप्त और दक्षिण भारतीय साम्राज्य

मध्यकालीन इतिहास 4 दिन

दिल्ली सल्तनत, मुगल साम्राज्य, प्रांतीय राजवंश और भक्ति आंदोलन

आधुनिक भारत का इतिहास 10 दिन

ब्रिटिश प्रशासन, ब्रिटिश शासन और भारतीय प्रतिक्रिया, ब्रिटिश आर्थिक नीति, धार्मिक और सामाजिक सुधार आंदोलन, स्वतंत्रता संग्राम, प्रसिद्ध व्यक्तित्व

कला एवं संस्कृति 5 दिन

प्राचीन, मध्यकालीन और आधुनिक कला, वास्तुकला, नृत्य, नाटक और संगीत

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2019 के लिए 150 दिन की अध्ययन योजना : भूगोल

आपको बता दे कि  प्रारंभिक परीक्षा में “विश्व भूगोल” की तुलना में भारतीय भूगोल को अधिक महत्व दिया जाता है।

भूगोल विषय के फोकस क्षेत्र:20 दिन

भारतीय भूगोल 12 दिन

भौतिक विज्ञान, नदी प्रणाली, जलवायु, खनिज, मृदा, कृषि, मानव भूगोल, प्राकृतिक वनस्पति

विश्व का भूगोल 8 दिन

पृथ्वी और ब्रह्माण्ड, लैंडफोर्म, वायुमंडल, पवन प्रणाली, बादल और वर्षा, जलमंडल और जलवायु के विभिन्न प्रकार

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2019 के लिए 150 दिन की अध्ययन योजना : भारतीय राज्यव्यवस्था

सभी नागरिक सेवाओं के लिए भारतीय राज्यव्यवस्था को पढ़ना आवश्यक है। इस विशेष खंड से बहुत सारे प्रश्न पूछे जाते हैं।

भारतीय राज्यव्यवस्था विषय के फोकस क्षेत्र  20 दिन

संविधान सभा, राज्य और नागरिकता, मौलिक अधिकार और कर्तव्य, नीति निर्देशक सिद्धांत, राष्ट्रपति और संसद, न्यायपालिका, कैग, राज्यपाल और राज्य विधानमंडल,केंद्र-राज्य सम्बन्ध, स्थानीय सरकार, यूपीएससी, चुनाव आयोग, संवैधानिक संशोधन

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2019 के लिए 150 दिन की अध्ययन योजना : अर्थव्यवस्था

अर्थव्यवस्था खंड से प्रायः 12-22 प्रश्न पूछे जाने का रुझान रहा है।

अर्थव्यवस्था विषय के फोकस क्षेत्र :25 दिन

अर्थशास्त्र, गरीबी, असमानता और बेरोजगारी, धन और बैंकिंग सिस्टम, राजकोषीय नीति और बजट, कराधान, योजना, बाजार, सार्वजनिक क्षेत्र, सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयां,विदेशी क्षेत्र / विदेश व्यापार, अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक संगठन, आर्थिक सर्वेक्षण, सामाजिक विकास, गरीबी और उन्मूलन, जनसांख्यिकी, सामाजिक क्षेत्र की पहल

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2019 के लिए 150 दिन की अध्ययन योजना: पर्यावरण

पिछले कुछ वर्षों से सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा में पर्यावरण संबंधी विषयों से बहुत सारे प्रश्न पूछे जा रहे हैं।

पर्यावरण विषय के फोकस क्षेत्र :20 दिन

पर्यावरण पारिस्थितिकी, प्रदूषण, जैव-विविधता, संरक्षण, सतत विकास, पारिस्थितिक रूप से संवेदनशील क्षेत्र, जलवायु परिवर्तन, अंतर्राष्ट्रीय संगठन, संधियां और सम्बन्धों और वर्तमान पर्यावरण संबंधी मुद्दे पर सामान्य मुद्दे।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2019 के लिए 150 दिन की अध्ययन योजना : विज्ञान और प्रौद्योगिकी

IAS प्रारंभिक परीक्षा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा विज्ञान और प्रौद्योगिकी है। ये ज्यादातर विश्लेषणात्मक प्रश्न हैं जो इस खंड में दिखाए गए हैं।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विषय के फोकस क्षेत्र :20 दिन

बल और ऊर्जा, प्रकृति प्रसार, स्पेक्ट्रम, सम्पूर्ण आंतरिक परावर्तन, अपवर्तन, पृष्ठ तनाव और केशिका क्रियाएं, गर्मी और प्रकाश, प्राकृतिक तत्व, परमाणु ऊर्जा,  तत्व और यौगिकों के गुणधर्म, एंटीऑक्सिडेंट, आइसोटोप और कृत्रिम बारिश, कोशिका जीव विज्ञान, पौधों में प्रकाश संश्लेषण, कार्बोहाइड्रेट्स और प्रोटीन, रक्त समूह, डीएनए अनुक्रम, डीएनए फिंगरप्रिंटिंग, बीमारियां जैसे- टीबी, कॉलेरा, पैर और मुंह और ईबोला आदि, स्टेम कोशिकाएं, वायरस और बैक्टीरिया, खनिज और विटामिन, भारतीय एजेंसियां जैसे डीआरडीओ और सीएसआईआर, फील्ड कम्युनिकेशन, वाई-फाई, वाई-मैक्स और ब्लू-टूथ के बीच अंतर, लेटेस्ट ट्रेंड इन   टेक्नोलॉजीज- सीएफएल और एलईडी, ब्लू-रे डिस्क्स और डीडीवी, एचडी, प्लाज्मा टीवी, वाई-फाई, वाई-मैक्स, जीएसएम, सीडीएमए आदि, जेनेटिक इंजीनियरिंग, उपग्रह और कक्षाओं जैसे प्रौद्योगिकी के नवीनतम रुझान,शारीरिक और आभासी नेटवर्क और संबंधित अवधारणाएं जैसे वीपीएन, वान, लैन, राउटर और हब, एनएफसी

 IAS प्रारंभिक परीक्षा 2019 के लिए 150 दिन की अध्ययन योजना : कर्रेंट अफेयर

UPSC सिविल सर्विसेज परीक्षा के लिए करेंट अफेयर का महत्व प्रत्येक वर्ष बदलता रहता है।

कर्रेंट अफेयर विषय के फोकस क्षेत्र :20 दिन

राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व के विषय: इसका अर्थ अर्थशास्त्र, राजनीति, एससी जैसे विषयों से संबंधित प्रश्न है। प्रोद्योगिकी या अंतर्राष्ट्रीय संबंधों की वर्तमान प्रासंगिकता होगी।

करेंट अफेयर के लिए 10-12 महीने के प्रमुख विषयों और घटनाओं का गहराई से अध्ययन करें। इसके अतिरिक्त, अलग-अलग स्रोतों जैसे अखबार, सरकारी प्रकाशन, मिनिस्ट्री की साईट और नेट से उपयोगी नोट्स तैयार करें। भारत वर्ष पुस्तक, आर्थिक सर्वेक्षण, योजनाएं और कुरुक्षेत्र इत्यादि पत्रिकाओं का भी अध्ययन करें।

IAS प्रारंभिक परीक्षा परीक्षा 2019 जनरल स्टडीज पेपर-I : तैयारी टिप्स

यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं जो आपको अपने IAS प्रारंभिक परीक्षा परीक्षा 2019 की योजना में सफलता प्राप्त करने के लिए बचे महीनों में शामिल करना चाहिए। सर्वप्रथम तो आपको परीक्षा आवश्यकताओं से परिचित हो जाना चाहिए। IAS प्रारंभिक परीक्षा परीक्षा उम्मीदवार के सहनशक्ति का भी परीक्षण लेती है अतः परीक्षार्थी को खुद को परीक्षा की आवश्यकताओं के लिए मानसिक रूप से परिचित कर लेना चाहिए।

मुख्य समस्या के रूप में जिससे उम्मीदवार गुजरता है वह है परीक्षा की समय सीमासीमा। एक उम्मीदवार को 120 मिनटों में लगभग 100 प्रश्नों का उत्तर देना होगा, इसलिए औसत रूप से प्रत्येक प्रश्न के लिए लगभग 40 सेकंड मिलते हैं। इसलिए परीक्षार्थी को अपनी रणनीति को इसके अनुरूप ही रखनी चाहिए।

IAS प्रारंभिक परीक्षा परीक्षा के लिए विश्वसनीय किताबों का ही सहारा लें
IAS प्रारंभिक परीक्षा परीक्षा में सफलता पाने के लिए सबसे महत्पूर्ण बात है की आपके बुनियादी कॉन्सेप्ट तैयार होने चाहिए।

परीक्षा में सवालों का स्तर 10+2 में पूछे गए सवालों के स्तर का होता है। इसलिए, इस स्तर की पुस्तकों को अवधारणात्मक स्पष्टता हासिल करने के लिए सावधानीपूर्वक पढ़ना चाहिए। अथार्त विषय क्या वहन  करना चाहता है (उसके उत्पत्ति, गुण, अवगुण) उसकी अंतर्दृष्टि प्राप्त करें। और यह समझना की यह अन्य संबंधित अवधारणाओं या संबंधित विषयों या अन्य विषयों के साथ कैसे अंतर-संबंधित है।

विगत वर्ष के परीक्षा प्रश्न पत्र और मॉडल प्रश्नपत्रों को हल करें
परीक्षा में चार विकल्पों में से सही विकल्प का चुनाव करना ही सफलता का रास्ता है क्योंकि एक गलत नेगेटिव मार्किंग के कारण आपके अंक को कम कर देगा। रट्टा मार विधि से आप सीधे पूछे जाने वाले 20 प्रश्न से अधिक नहीं नहीं कर पाएंगे।
Anuj DK Mishra
सही विकल्प तक पहुचने के लिए उन्मूलन विधि सर्वोत्तम मानी गई है जो कम–से-कम प्रासंगिक विकल्प को हटाती जाती है और अंत में बचा ही उत्तर के रूप में माना जाता है। यह विधि केवल तभी लागू की जा सकती है अगर आप ने पिछले कई वर्षों के प्रश्न पत्र हल करने के ठोस प्रयास किए हों और निर्धारित समय के भीतर मॉडल प्रश्नपत्र संभव को हल किया हो।

IAS प्रारंभिक परीक्षा के मॉक टेस्ट अवश्य दें
मॉक टेस्ट एक ऐसा अभ्यास है जो असफल उम्मीदवारों से सफल उम्मीदवारों को अलग करता है। मॉक टेस्ट को सफल उम्मीदवार अपनी नियमित तैयारी का अभिन्न अंग बनाते हैं। मॉक टेस्ट हल करने से उम्मीदवार को अपनी गलतियों को जानने और सुधारात्मक उपाय करने में मदद मिलती है।

बचे हुए समय का उपयोग कैसे करें? परीक्षा की नजदीकी को देखते हुए अपनी पढ़ाई को सुदृढ़ कैसे बनाये

आपको 2019 प्रारंभिक परीक्षा पास करने के लिए 150 दिन काफी है अगर आप अपने समय का सदुपयोग करते है तो।बाकी आपके पास 150 दिन के अलांवा 23 दिन शेष बचते है जिसका उपयोग आप 1 सप्ताह या 15 दिन में किसी भी रविवार को बिल्कुल भी पढ़ाई न करें बल्कि घूमे टहले मूवी देखे या जिसमे आपको रुचि हो वो करें इससे आप ऊर्जावान रहेंगे और आपके तैयारी भी बेहतर हो सकेगी।
जब परीक्षा का दिन करीब आये तो आप 8 घण्टे से 10-12 घण्टे पढ़ाई करना शुरू कर देंगे।
अगर आप इस पोस्ट को फॉलो कर ले गए इसके अकॉर्डिंग टारगेट सेट कर पढ़ाई कर लिए तो यकीन मानिए आप अपने लक्ष्य को बहुत ही जल्दी पा सकते है।

बाकी अब आप IAS मुख्य परीक्षा 2019 मेरिट लिस्ट में आने वाले सभी आवश्यक वस्तुओं के साथ तैयार हैं। हम आपको आगामी IAS प्रारंभिक परीक्षा परीक्षा 2019 के लिए शुभकामनाएं देते हैं।

जब चीजें आसान हो जाती हैं तो हम विकास नहीं करते हैं, जब हम चुनौतियों का सामना करते हैं तो हम बड़े होते हैं।

Anuj DK Mishra

Post a Comment

नया पेज पुराने
–>